रियो ओलम्पिक (टेनिस) : सानिया-बोपन्ना भी नहीं ला सके पदक | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

रियो ओलम्पिक

रियो ओलम्पिक (टेनिस) : सानिया-बोपन्ना भी नहीं ला सके पदक 

रियो ओलम्पिक (टेनिस) : सानिया-बोपन्ना भी नहीं ला सके पदक

रियो डी जनेरियो, 14 अगस्त (आईएएनएस)| विश्व की सर्वोच्च महिला युगल खिलाड़ी सानिया मिर्जा और रोहन बोपन्ना भी भारत के लिए ब्राजील की मेजबानी में खेल जा रहे ओलम्पिक खेलों में पदक लाने में असफल साबित हुए। सानिया और बोपन्ना की जोड़ी को यहां जारी 31वें ओलम्पिक खेलों के नौवें दिन रविवार को टेनिस के मिश्रित युगल स्पर्धा के कांस्य पदक के लिए हुए प्लेऑफ मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा और वे कांस्य पदक हासिल करने का मौका गंवा बैठे।

यह भी पढ़े: भारतीय खिलाड़ियों के रियो में ओलम्पिक न जीतने पर विराट कोहली का बड़ा बयान

ओलम्पिक टेनिस सेंटर कोर्ट-1 में हुए इस मुकाबले में सानिया और बोपन्ना को चेक गणराज्य की लुसी ह्रादेका और राडेक स्टेपानेक की जोड़ी ने सीधे सेटों में 6-1, 7-5 से पराजित कर कांस्य पदक हासिल किया। चेक गणराज्य की जोड़ी ने एक घंटे और 11 मिनट में यह मुकाबला अपने नाम किया।

पहले सेट में भारतीय जोड़ी अपने विपक्षियों के सामने संघर्ष भी नहीं कर पाई। पहले सेट में चेक जोड़ी ने भारतीय जोड़ी को 10 बार गलती करने को मजबूर किया। सानिया और बोपन्ना की जोड़ी इस सेट में कुल 18 अंक ही हासिल कर पाई जबकि लुसी और राडेक की जोड़ी ने कुल 29 अंक अपने नाम किए।

यह भी पढ़े: रियो ओलिम्पिक 2016: अर्मेनिया के वेटलिफ्टर के साथ हुआ दर्दनाक हादसा

भारतीय जोड़ी पहली सर्विस को संभाल नहीं पाई और उनके विपक्षियों ने पहले ब्रेक प्वाइंट का फायदा उठाते हुए 2-0 से बढ़त ले ली।

इस बढ़त को बढ़ाते हुए लुइस और राडेक की जोड़ी ने 3-0 कर दिया।

लिऐंडर पेस के पूर्व जोड़ीदार राडेक ने अपने अनुभव का भरपूर फायदा उठाया। लुइस और राडेक की जोड़ी ने पांच ब्रेक प्वाइंट में से दो अपने नाम करते हुए 27 मिनट में पहला सेट जीता।

दूसरे सेट में भारतीय जोड़ी ने वापसी करने की कोशिश की और अच्छा संघर्ष भी किया। हालांकि उसकी शुरुआत अच्छी नहीं रही और चेक जोड़ी ने 1-0 से बढ़त ले ली।

सानिय-बोपन्ना ने तुरंत बारबरी की और फिर 3-1 से आगे हो गए। लेकिन यह जोड़ी इस बढ़त का फायदा नहीं उठा सकी और जल्दी लुइस और राडेक की जोड़ी ने 3-3 से बराबरी कर ली।

यह भी पढ़े: राजदीप सरदेसाई ने पूछा कुछ ऐसे सवाल की सानिया मिर्जा ने दिया करारा जबाब

दोनों टीमों ने इसके बाद 1-1 अंक हासिल किया और स्कोर 4-4 से बराबर हो गया।

बोपन्ना ने संयम रखते हुए पिछड़ने के बाद भारत को एक बार फिर 5-5 से बराबरी पर ला दिया।

लेकिन सानिया ने मैच के अहम समय दबाव में सर्विस करते हुए तीन ब्रेक प्वाइंट किए।

भारतीय जोड़ी ने हालांकि दो ब्रेक प्वाइंट बचाए लेकिन फिर भी 5-6 से पीछे हो गई। लुइस ने अहम समय पर मैच प्वाइंट बचाया और भारत को इस ओलम्पिक में अपने पहले पदक से दूर रखा।

सानिया-बोपन्ना की जोड़ी को सेमीफाइनल में अमेरिका की वीनस विलियम्स और राजीव राम की जोड़ी ने शनिवार को 6-2, 2-6, 3-10 से मात दी थी।

यह भी पढ़े: सानिया-बोपन्ना की नजर कांस्य पदक पर

Related posts

Comments are closed.