टीम इंडिया के दिग्गज सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (Shikhar Dhawan) इन दिनों टेस्ट और टी20 टीम से बाहर चल रहे हैं। उन्हें इन दोनों फॉर्मेट से बाहर हुए करीब 1 साल से ज्यादा का समय हो चुका है। चयनकर्ता तो अब उनके नाम पर विचार तक नहीं करते हैं। हालांकि, वनडे में वो अभी भी टीम का हिस्सा हैं और शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं। वेस्टइंडीज के खिलाफ वो टीम इंडिया की कप्तानी भी कर चुके हैं जहाँ उन्होंने 97 रनों की शानदार पारी खेली थी। इसके साथ ही अब वो ज़िम्बाव्बे दौरे पर भी टीम की कमान संभालते हुए नजर आएँगे। इसी बीच उन्होंने टेस्ट और टी20 टीम से बाहर होने पर बड़ा बयान दिया है।

टेस्ट-टी20 से बाहर होने पर क्या बोले धवन ?

टेस्ट और टी20 टीम से बाहर होने पर भी शिखर धवन (Shikhar Dhawan) को निराशा नहीं हैं। उनके मुताबिक शायद यह उनका समय नहीं है। वो अपने प्रदर्शन से काफी संतुष्ट हैं और क्रिकेट के मैदान पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देते रहेंगे। उन्हें इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है कि जब भी उनका नाम टीम में नहीं आता है।

स्पोर्ट्स तक पर बात करते हुए ‘गब्बर’ ने कहा,

”सच कहूं तो मुझे कोई निराशा नहीं है। मेरे हिसाब से हर चीज का अपना एक समय होता है। शायद यह मेरा समय नहीं है। हो सकता है कि मुझमें किसी ऐसी चीज की कमी हो जिसे मैं बहुत अच्छी तरह से नहीं कर पाया। वैसे, मायने यह रखता है कि मैंने अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दिया है।”

टीम में नाम नहीं आने से फर्क नहीं पड़ता

शिखर धवन (Shikhar Dhawan) ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा,

”मुझे इस बात की चिंता ज्यादा रहती है कि मैं खुश हूँ या नहीं या संतुष्ट हूँ या नहीं। ऐसा नहीं है कि अगर जो मेरा नाम टीम में नहीं आता तो मेरे उपर इस बात का फर्क पड़ता है या ऐसा कुछ होगा। मैं बहुत ही अच्छा महसूस कर रहा हूँ। मेरी यही कोशिश है कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश करूँ। ”

मौका मिलेगा तो खेलेंगे धवन

अंत में शिखर धवन (Shikhar Dhawan) ने कहा,

”अगर मुझे मौका मिलता है तो क्यों नहीं खेलूंगा ? मैंने जब आईपीएल खेला तो वहीं पर अपना बेहतरीन प्रदर्शन देने की कोशिश की और अगर जो मैं अच्छा करता हूं तो हो सकता है मुझे मौका मिले। मेरा काम है प्रदर्शन करना। इसके आगे का सारा काम चयनकर्ताओं का है। यह उनकी सोच है कि वो आगे के लिए क्या देखकर चल रहे हैं।”

बता दें कि धवन इंग्लैंड के साथ-साथ वेस्टइंडीज के भारत दौरे के दौरान वनडे टीम का भी हिस्सा थे।