अगर कम्पनी करती है स्मैकडाउन और रॉ को लेकर ये बदलाव तो बढ़ सकती है TRP 1

इस बात से पूरा जग वाकिफ़ है कि WWE की रेटिंग्स में बीते कई महीनों से गिरावट देखने को मिल रही है। फिर चाहे वो कंपनी की रॉ ब्रांड हो या स्मैकडाउन ब्रांड। रोमन रेंस के जाने के बाद से सुनने में आ रहा है कि लोग WWE में दिलचस्पी खोते जा रहे हैं।

साल भर पहले तक WWE रॉ की एक लाइव इवेंट को देखने वाले दर्शकों की संख्या तीस लाख को छुआ करती थी। लेकिन साल भर के भीतर कंपनी धड़ाम से नीचे आ गिरी है। रॉ की रेटिंग्स 22 लाख से भी नीचे आ पहुंची है। स्मैकडाउन की तो इससे भी कम हैं।

सवाल उठने लगे हैं कि विन्स मैकमेहन को जल्द से जल्द कोई बड़ा कदम उठाने की सख्त ज़रूरत है। नहीं तो कंपनी इतनी डूब जाएगी, उसे उठाना किसी के बस की बात नहीं होगी।

जरुर पढ़ें: ब्रॉन स्ट्रोमैन इन कारणों से नहीं बन पा रहे हैं WWE यूनिवर्सल चैंपियन

क्या रॉ और स्मैकडाउन एक बार फिर साथ आने वाले हैं?

अगर कम्पनी करती है स्मैकडाउन और रॉ को लेकर ये बदलाव तो बढ़ सकती है TRP 2

2016 में रॉ और स्मैकडाउन को अलग-अलग ब्रांड्स बना दिया गया था। यह कदम 2016 में तो सफ़ल रहा, जब कंपनी के दर्शकों की संख्या में भारी उछाल देखा गया।

लेकिन जैसे-जैसे समय बीता, रेवेन्यू और रेटिंग्स में भारी गिरावट होती रही और यह दौर अभी भी ज़ारी है। क्या अब समय आ गया है कि अधिकारियों को इस बाबत चर्चा करनी चाहिए कि दोनों ब्रांड्स को एक बार फिर साथ में जोड़ दिया जाये।

यह भी पढ़ें: ब्रॉन स्ट्रोमैन को मिला बैरन कॉर्बिन की धुनाई करने का मौका

सर्वाइवर सीरीज़ में स्मैकडाउन का हुआ था सूपड़ा साफ़

अगर कम्पनी करती है स्मैकडाउन और रॉ को लेकर ये बदलाव तो बढ़ सकती है TRP 3

क्या यह कहना सही होगा कि सर्वाइवर सीरीज़ में जो स्मैकडाउन टीम का क्लीन-स्वीप हुआ। वह इन दोनों ब्रांड्स को साथ लाने की ओर पहला कदम था। बता दें कि सर्वाइवर सीरीज़ में स्मैकडाउन की कोई भी टीम, रॉ के किसी रेसलर को हरा नहीं सकी।

यह कहना कतई ग़लत नहीं है कि WWE को बड़े बदलावों की सख्त ज़रूरत है। यह फ़ैसला कई मायनों में बड़ा है, कम से कम विन्स मैकमेहन को इस बाबत चर्चा करनी चाहिए।

Leave a comment